सीएमपी पहल

सामान्य लघु कार्यक्रम २०१८-१९

१)विद्यालय तत्परता कार्यक्रम अप्रैल और मई के महीने में किया गया |

  पहली कक्षा के विद्यार्तियों का विद्यालय के प्राचार्य एवम अद्यापकों द्वारा स्वागत किया गया |

२) अभिभावकों के साथ एक संगोष्ठी की गई और उन्हें विद्यालय के नियमों के बारे में अवगत कराया गया|

3) सह्पाठ्यगामी गतिविधि: विद्यार्थी परिषद का गठन किया गया और गयासह्पाठ्यगामी गतिविधियों की सूची बनाई गई एवं उसे कार्यान्वित किया |

४) सामान्य लघु कार्यक्रम अनुदान:हर माह २००० रुपये की अनुदान राशि शिक्षण अधिगम सामग्री खरीदने में इस्तेमाल की जाती है|

५) हर माह के अंत में कार्यपत्रक विद्यार्थियों को दिया जाता है और एक परीक्षा द्वारा विद्यार्थियों ने लक्ष्यित अधिगम बिंदु किस हद तक प्राप्त किया उसका पता लगाया जाता है, मूल की ओर परियोजना के अंतर्गतक |

६) कक्षा पुस्तकालय : प्रत्येक कक्षा में एक कक्षा पुस्तकालय का प्रावधान है |

विद्यार्थियों को पुस्तकालय के कालांश में किताबें पढ़ने को दी जाती हैं|

७) अध्यापकों का कक्षा निरीक्षण : अध्यापकों द्वारा पढ़ाये गए पाठ का निरीक्षण समय –समय पर मुख्याधिपिका द्वारा किया जाता है| अध्यापकों द्वारा किया गया जांच कार्य का निरीक्षण किया जाता है|

8) विद्यार्थियों को सामान्य लघु कार्यक्रम के अंतर्गत हो रहे अंतर विद्यालय सांस्कृतिक और खेलकूद प्रतियागिताओं के लिए भी तैयार किया जाता है| इस वर्ष की सामान्य लघु कार्यक्रम की सांस्कृतिक प्रतियोगिता के . वि . ई.ऍम.ई में 15 दिसम्बर को आयोजित की जाएगी और खेल कूद प्रतियोगिता के.वि. क्रमांक १ हरणी रोड वडोदरा में आयोजित की जाएगी|

9) कम्युनिटी लंच का आयोजन प्रत्येक सत्र में एक बार किया जाता है जिसमे बच्चे एक साथ मिल कर खाना खाने का मज़ा लेते हैं|

१०) दादा दादी नाना नानी दिवस का आयोजन वर्ष में एक बार किया जाता है जिससे विद्यार्थियों में अपने दादा- दादी  व नाना –नानी की प्रति प्रेम और आदर बढे व वे उनका हमारे जीवन में जो महत्व है उसे समझें|

११) अध्यापकों के लिए कार्यशालाओं का आयोजन समय समय पर किया जाता है जिससे अध्यापकों को शिक्षा के क्षेत्र में हो रहे बदलाव से अवगत कराया जा सके|

१२) विद्यार्थियों को बच्चों के देखने लायक चलचित्र भी दिखाए जाते हैं|

१३) बाल दिवस समारोह : पंडित जवाहरलाल नेहरु के जन्मदिवस पर बाल दिवस समारोह का आयोजन कराया गया | विद्यार्थियों ने विचित्र वेश भूषा प्रतियोगिता में बढ़ –चढ़ कर हिस्सा लिया |

१४) आनंदवार का आयोजन दूसरे शनिवार को छोड़ कर हर शनिवार को विद्यालय में मनाया जा रहा | विद्यार्थी भ्रमण , सिलाई, कढ़ाई, क्ले मॉडलिंग , नाच – गाना ,खेलकूद, लैंग्वेज लैब आदि का मज़ा लेते हैं|

1५) हिंदी और इंग्लिश पठन प्रतियागिताओं का आयोजन हर माह के अंत में कराया जायेगा जिससे बच्चों में पठन की तरफ रूचि उत्तपन हो|

१६) उपचारात्मक शिक्षण सह्पाठ्यगामी गतिविधि के कालांश में कराया जायेगा और सह्पाठ्यगामी गतिविधि के कालांश को आनंदवार के दिन कराया जायेगा|

१७) तीसरी से लेकर पांचवी कक्षा के विद्यार्थियों द्वारा कक्षा पत्रिका बनायी गई जिसमे विद्यार्थियों ने अपनी रचनात्मक कला का प्रदर्शन किया|